Connect with us

Dard Bhari Shayari In Hindi – Dard Bhri Shayari – दर्द भरी शायरी

Dard Bhari Shayari In Hindi

इस पोस्ट मे मै आपके लिए Dard Bhri Shayariदर्द भरी शायरीDard Bhari Shayari In Hindi ले कर आया हु। उम्मीद है आपको पाषंड आइये गई।

दिल जला जब भी मेरा,
नीर बहा लेता हूं,
प्यार के किस्सों को,
दिल में दबा लेता हूं।

इन आसुंओं में क्या रखा है,
इस दर्द को सुनाने में क्या रखा है।
उदास रहने की आदत सी पड़ गई है,
वरना उदासी में क्या रखा है।

अंगूठी की नूर को नगीना कहते है,
जो प्यार करना छोड़ दे उसे कुत्ता – कमीना कहते हैं।

वो न माने हमने लाख मनाना चाहा,
दूरियां बढ़ती ही गई लाख पास बुलाना चाहा।

Dard Bhari Shayari In Hindi

हे खुदा सुन फरियाद इस बदनसीब की,
दुआएँ देगा तुझे यह गरीब भी।

हम भी नाम रोशन करना चाहते थे, जमाने में,
मगर अफसोस खुदा ने जन्म दिया, गरीबखाने में।

वफ़ा न हुई कमबख्त से,
बेवफ़ाई कर बैठा,
अब खुद भी रोता है,
और हमें भी रुला बैठा।

हमने जिस फूल से वफ़ा की,
वही हम से खफ़ा है,
ऐ माली ! बाग के,
क्या यहां हर फूल बेवफ़ा है।

मेरी हजारों खुशियां राख हो गईं तेरे बिना,
खुदा करे तेरी आँखों में हज़ारों अश्क हों मेरे बिना।

इसे भी पढ़े:- Sad Shayari

बेवफ़ाओं से वफ़ा करके देख ली,
कोई नहीं मरता, दूसरो की खातिर,
हमने ज़िन्दगी बर्बाद करके देख ली।

बेवफ़ाई हम भी कर सकते थे, बेवफ़ा तुमसे,
हमारा दिल न माना, शायद इसे मुहब्बत है तुमसे।

हे खुदा मेरी ज़िन्दगी का,
पन्ना कोरा क्यों रह गया,
क्या तेरे पास स्याही कम थी,
या तेरा दिल बेवफ़ा हो गया।

ज़िन्दगी एक जुआ है,
क्या पता कब हार जाएं यारो,
तुम भूल कर भी अपने दिलों की बाजी न लगाना यारो।

प्यार करना हो तो निभाना सीखो,
किसी के बन जाओ उसे अपना बनाना सीखो ।

Shayari Dard Bhari

तुम कहते थे हमारी मुहब्बत एक जंजीर है,
अब सुना है, तेरे दिल में किसी और की तस्वीर है।

तेरी दुनिया से मईय्यत मेरी जिस रोज़ उठ जायेगी,
उस दिन बेवफ़ा तेरे दिल की हर गली सूनी हो जायेगी।

जीने की तमन्ना न रही,
जबसे दिल टूट गया,
खुदा उनका भला करे,
जो मुझको ठुकरा गया।

हम मरते – मरते मर गये,
मगर वो रोये नहीं,
कौन कहता है यारो,
फिर बेवफ़ा वो नहीं।

दिन रात जो हंसे ऐसे होंठ नहीं देखे,
अपनों को छोड़कर गैर अपनाएं जो , ऐसे दोस्त नहीं देखे।

आईने नहीं बदलते कभी,
तस्वीरें बदल जाती हैं,
जाने वाले लौट कर नहीं आते,
बस यादें उनकी रह जाती हैं।

मौत का हमें ग़म नहीं,
वो तो एक दिन आनी थी,
गम बस इतना था,
जो मेरी मईय्यत पे तुम शामिल नहीं थी।

वफ़ा के नाम पर सब कुछ लुटा के देख लिया,
अब बेवफ़ा मरूंगा यह तन्हा दिल ने फैसला कर लिया।

हमें देखने वालो कभी हम भी आईना थे,
बदकिस्मती पत्थर से टकराये और टूट गये।

हमसे सभी ने बेवफाई की वफ़ा किसी ने नहीं,
खुदा यूं गम तो बहुत मिले मगर उस ग़म जैसा कोई नहीं।

अपनी वफ़ा के फूल खिल न पाये क्या हुआ,
बेवफ़ा जीने तुझे भी नहीं देगी मेरी बद्दुआ।

दिल तो सभी लगा लेते हैं,
दिल देता नहीं कोई,
हाथ तो सभी पकड़ लेते हैं,
मगर साथ चलता नहीं कोई।

मेरे दिल को रोग लगाने वाली,
तू जिये हजारों साल,
हमने यही दुआ की,
बेदर्दी तुझसे बिछुड़ जाने के बाद।

Dard Bhare Status

गमे – आशिकी के नजारे गमे – आशिक तक न पहुँचे,
वो कभी सुबह तक न आए कभी शाम तक न पहुंचे।

रोशनी मिली है , मगर अन्धेरा छाने के बाद ,
इसे मैं अपनी किस्मत समझू या तेरी मेहरबानी।

हमने अपनी ज़िन्दगी नाम तुम्हारे कर दी सारी,
तू दौलत के लिए ठुकरा गई मुहब्बत हमारी।

हर दर्द का इलाज दवा नहीं होती यारो,
कुछ दर्द ऐसे होते हैं जो जाम पीने से मिटाये जाते हैं यारो।

क्यों रोता है बेखबर हो के, उसकी याद में,
एक दिन वो ही छोड़ जायेंगे तुझे रोता , भरी बहार में।

अपनी तो बीत जायेगी,
ले के बीते हुए कल का सहारा,
तू डूब जायेगी अश्कों से मेरे,
तुझे मिलेगा न किनारा।

जिन्दगी तो मिली हमें,
उसके बिना सूनी रह गई दोस्तो,
मौत न आई, जिन्दगी बोझ बन गई दोस्तो।

Dard Bhari Shayari In Hindi

हर शाम मुझ पे ही क्यों आती है, ओढ़े दर्द का कफ़न,
खुदा करे तुझे भी कोई पहना दे बेवफ़ाई का कफ़न।

दोस्तों भरी बहार थी, हम चले गए बाग में,
रोये बहुत कसम से, बीते दिनों की याद में।

हे खुदा ! किसको सुनायें हम हाल अपने दिल का,
सभी दूर से देखते हैं , अंजाम मेरी मुहब्बत का।

वो पेड़ कैसा जिसके ऊपर फूल न हो,
वो इन्सान कैसा जिससे कोई भूल न हो।

दिल तोड़ के क्यों हंसती हो तुम गरीब का,
याद तुझको एक दिन प्यार आयेगा, इस बदनसीब का।

Dard Bhari Shayari In Hindi

मैं अपनों से लड़ता रहा जिसके लिए,
वो ही मेरा दिल तोड़ गई औरों के लिए।

मत पूछ तू मेरे दिल का हाल,
जुदाई का एक – एक पल लगता है एक – एक साल।

मैं हर दर पर फिरता रहा सहारे के लिए,
हर दरवाज़ा क्यों बन्द निकला हमारे लिए।

आप क्यों रोते हो हम बहुत रो चुके हैं,
अब खामोशी से फिदा करो हम गहरी नींद सो चुके हैं।

दिखाई न देंगे हम तुम्हें जमाने में दोस्तो,
एक ही खता हुई है मुझ दीवाने से दोस्तो ।

हे खुदा ! कब आयेगी ऐसी सुहानी रात,
मेरी अर्थी के साथ आयेगी उसकी बारात।

मुहब्बत जिन्दगी में नहीं तो क्या हुआ यारो,
मुहब्बत का ग़म तो नसीब हुआ यारो।

शराब तो मेरी दवा है,
उसे ज़हर मत कहो,
वो तो जिन्दगी है मेरी,
उसे गैर मत कहो।

वो बेवफ़ा था मेरी वफा को समझ न पाया,
यार तो था यारो मगर यारी निभा न पाया।

इसे भी पढ़े:- Miss You Shayari

जलाते तो उन्हें हैं जो लोग मर जाते हैं,
जलायें उन्हें क्या जो दूसरों की यादों में जल जाते हैं।

आंसू हैं यह गरीब के इन्हें तू पानी ही समझना,
तुम खुशनसीब हो बेवफ़ा हमें बदनसीब ही समझना।

दिल का कत्ल हुआ तो हम सह न सके,
खुदा करे तू भी हमारे बिना जिन्दा रह न सके ।

आग में मरे हुए लोग जलते हैं यारो,
हम तो जिन्दा लाश बन कर जल रहे हैं यारो।

जिसे तू चाहता है वो बड़ा खुशनसीब है,
वो तो शहनशाह है पर यह आशिक गरीब है।

Dard Bhari Shayari Hindi

बेवफ़ा से वफ़ा की है कोई खता तो नहीं की,
दिल मे रखी है तस्वीर उसकी दिल से खफ़ा तो नहीं की।

जिन्दगी रहती तो हम यह सितम भी देखते,
दूर से हम अपना बरबाद यह शहर भी देखते।

तुझसे दिल लगा कर बैठा जिन्दगी में पहली खता,
मुझे क्या पता था, तेरे खाली आंचल को,
हीरों की ज़रूरत थी बेवफा।

वाह शराब बनाने वाले क्या चीज़ बनाई है,
जब से होठों को लगाया है इसे,
तब से दिल मे जान आई है।

आग में हाथ मत डालना जल जाओगे दोस्तो,
किसी बेवफ़ा से वफ़ा मत करना मर जाओगे दोस्तो

तुझे याद करके रोता रहता है मेरा दिल,
दो कदम मैं चल नहीं सकता, तू ही आके मुझसे मिल।

हमारी किस्मत में पीना लिखा है,
मुझे जी भर के पीने दो दोस्तो,
शायद यह जहर ही मेरी जिन्दगी का हमसफर है दोस्तो.

मुझे सीने से लगा के वो जहर पिला गया,
वो बेवफ़ा मेरी वफ़ा को मिट्टी में मिला गया।

वो अपना बन के हमें न अपना सका,
किस्मत का लिखा आज तक कौन मिटा सका।

Dard Bhari Shayari In Hindi

आईना क्या टूटा मेरे दिल की गली में,
लोगों ने अपनी राहें ही बदल ली मुझ से।

हम अपना दिल जला बैठे उसे रोशन करने के वास्ते,
वो हमें अन्धेरे में तन्हा छोड़ गया औरों के वास्ते।

चाँद अन्धेरे में निकला और रोशन हो गया,
हमसे क्या खता हुई दिल जलता रह गया।

दुनिया में जी भर के ऐश कर लो मेरे दोस्तो,
जिन्दगी फिर दुबारा शायद नसीब न हो मेरे दोस्तो ।

हम अपने दिल को जला बैठे हैं कब से,
अब क्यों वफ़ा कर रही हो बेवफ़ा हम से।

दिल टूटा तो अपने रूठ गये,
नींद खुली तो सपने टूट गये।

Dard Bhari

जिसका कोई नहीं जमाने में,
उसका खुदा है इस जमाने में।

हमने तेरे हर ग़म को अपना ग़म समझा,
मगर अफसोस जो तूने, अपने काबिल हमें न समझा।

बीते हुए कल को क्यों बार – बार याद दिलाते हो दोस्तो,
हम खुद फनाह हो जायेंगे इतना क्यों सताते हो दोस्तो।

मेरा हर आँसू तेरा नाम लेकर गिरा ज़मीन पर,
तू देखना बेवफ़ा एक दिन तुझे डूबो देंगे वो दरिया बन कर।

दिल गम का कैदी और आँखों में अश्क आजाद,
इस दुनिया में ऐसा बदनसीब न होगा मेरे यार।

कभी हम भी फूल थे किसी गुलशन के,
लेकिन अब कांटे बन गये माली की नजरों के।

हमें न दिल टूटने का ग़म है और न तेरी रुसवाई का,
ग़म बस इतना है जो हाथ पकड़ा तूने रकीबों का।

खुशियां के सारे अरमां अश्कों में न बह जाएं,
यारो इस जहां में कोई ऐसा रोग न लगाएं ।

जुर्म निगाहों ने किया और सज़ा दिल को मिली,
इसे मैं तेरा अन्याय समझं या अपनी दिल्लगी।

हम से खता हुई है तू कभी बेवफाई करना नहीं,
गिले तू मुझसे दिल में कर लेना जुबां को कभी हिलाना नहीं।

जिनसे उम्मीद थी फूल चढ़ायेंगे, मईय्यत पे मेरे, मरने के बाद ,
वो भी पत्थर रख गये हमारे सीने में जलाने के बाद।

हमने जिसे अपना समझा वो ही बेगाना निकला,
यह तेरी मोहब्बत का कैसा अन्जाम निकला।

मेरे दिल को पता नहीं क्या हो गया सजना,
कभी भी इतना नहीं रोया जितना आज रोया सजना।

हम जिसे आज तक ज़हर समझते रहे दोस्तो,
अब उसे ही पीते हैं अमृत समझ के दोस्तो।

Dard Shayari In Hindi

हम अपना समझ के तुझको,
तेरे हर सितम को सहते रहे,
तुम गैर समझ के बेवफ़ा हम पर जुल्म ढाते रहे।

नहीं भूला हूं मैं अब तक तुझे, ओ हमें भूलने वाले,
खुदा करे तू जिसे याद करता हो, वो तुझे भूला डाले।

याद तुम्हारी आती है हमें एक – एक पल में सौ – सौ बार,
तेरे इन्तजार में हमने बेदर्दी अश्क भी बहाये हजार।

दर्द भरी शायरी

तेरा नाम जाने – वफ़ा है तू बड़ी बेवफा है,
मेरी जान तुम में पड़ी है तू हमसे क्यों खफा है।

ऐ दिल तू भूले से किसी से प्यार मत करना,
दुनिया में धोखा ही धोखा है तू कभी आंखें चार मत करना।

तू अगर हमें भुला दे कोई ग़म नहीं,
भुला दिया जिस रोज हमने तुझे,
तेरी कसम उस दिन जमाने में हम नहीं.

रोशनी को देखकर जी घबराता था मेरा अब तक,
रोशनी के बाद मिला जो अन्धेरा उसका न कोई अन्त निकला।

बचपन से जिसे हम अपना समझते रहे अब तक,
आज पता चला वो किसी और की अमानत निकला ।

हम उसे अपना समझ के दिल दे बैठे यारो,
वो गैर समझ के मेरे दिल को जख्मी कर बैठे यारो।

हम वफ़ा करके भी तड़पते रहे दोस्तो,
वो बेवफ़ाई करके चैन की नींद सोते रहे दोस्तो।

आँखों से आंसू आ जाते हैं देखकर तेरी तस्वीर को,
अब और हमसे सहा नहीं जाता बेदर्दी तेरी जुदाई को।

कोई हमदम न रहा कोई सहारा न रहा,
हम किसी के न रहे कोई हमारा न रहा।

Dard Bhari Shayari Hindi Mai

मेरी ज़िन्दगी तो कट जायेगी तेरी यादों के सहारे,
खुदा करे धोखेबाज़ तेरा दिल भी किसी के आगे हारे ।

जो जिन्दगी ग़म में गुजर जाये दोस्तो,
लोग उसे जुदाई का जाम कहते हैं दोस्तो।

गुजरे हैं इश्क में हम उस मुकाम से,
नफरत सी हो गई है मुहब्बत के नाम से।

हजारों डूबते हैं तमन्नाओं के भरोसे पर,
मैं भी डूब गया किसी अजनबी के भरोसे पर।

अरे पागल ! मत रो तू उसे याद करके,
वो बेदर्दी अब चला गया है तुझे बरबाद करके।

हम तुझे भूलकर कभी जोये तो नहीं,
मुहब्बत से अब दिल डरता है पता नहीं क्यों।

इसे भी पढ़े:- Yaad Shayari In Hindi

हम तो जो लेंगे ले के तेरी यादों का सहारा,
तू डूब जायेगी आंसूओं से मेरे तुझे मिलेगा न किनारा।

क्यों मुझ से है खफा , ऐ मौत जरा बता,
अब मैं जीना नहीं चाहता , ले चल मुझे उठा ।

किस – किस को सुनाऊं मैं तेरी कहानी,
दिल खामोश है मगर आँखों में है पानी।

आंसू आँखों में होते हैं कानों में नहीं,
मुहब्बत अपनों से होती है बेगानों से नहीं।

हमने उनके इन्तजार में जिन्दगी गुजार दी,
वो फिर लौट कर न आये जिनके लिए जान दी।

सुबह पीते हैं शाम पीते हैं दोस्तो,
रोज जहर पीकर ही हम जीते हैं दोस्तो।

हर शाम इस दिल में चिराग जला उनको खातिर,
हम अन्धेरे में रहे और वो रोशन हो गया हमारी खातिर।

Dard Bhari Shayari Photo: Dard Bhari Shayari In Hindi

लूटने वालों ने लूट लिया बड़े प्यार से दिलदार को,
ऐ खुदा ! तू उन्हें लूटना जो लूटते हैं दूसरों के प्यार को।

गैरों को चाहा हमने यहीं खता हुई हमारी,
ऐ खुदा ! अब हमें हर सजा कबूल है तुम्हारी ।

मैं हर दर पर फिरता रहा सहारे के लिए,
हर दरवाजा क्यों बन्द निकला मेरे लिए।

हम चले खुद को,
बर्बाद करके,
बहुत तड़पेंगे,
हम तुझे याद करके।

दिल तोड़ के न हंसो मेरा ओ बेवफा,
याद हमारी आयेगी तुम्हें जब हम हो जायेंगे जिन्दगी से खफ़ा।

बड़ा बेदर्दी है वो तो यारो,
हमारा दर्द न जान सका वो यारो।

हे खुदा हम तुम से फरियाद करते हैं,
ऐसे दोस्त हमें न मिलें जो हमें बरबाद करते हैं।

दिया जल नहीं सकता तेल के बिना,
खुशबू रह नहीं सकती फूल के बिना।

Shayari On Dard

कौन कहता है शराब खराब होती है दोस्तो,
टूटे दिलों की शराब ही दवा होती है दोस्तो ।

खुले दिल से पुकारे जो एक बार मुझे,
उस शख्स का अभी है इन्तजार मुझे।

ग़म में डूबी है जिन्दगी मेरी दोस्तो,
मौत न आई हमें जिन्दगी बोझ बन गई दोस्तो।

बेवफा इस भरी दुनिया में कोई हमारा न हुआ,
गैर तो गैर थे अपनो का भी सहारा न हुआ।

उनसे आँख लडी तो दिल दे बैठे,
वो हमे प्यार के बदले ग़म दे बैठे।

लोग तो रो – रोकर जी लेते हैं ज़माने में दोस्तो,
एक हम हैं हंस कर भी जी न सके ज़माने में दोस्तो।

दर्द भरी शायरी

तूने तो पहन लिया सुर्ख जोड़ा तोड़ के दिल गरीब का,
पीछे तो मुड़ कर देख लिया होता बेवफ़ा हाल इस बदनसीब का।

उधर तेरे हाथों मे मेंहदी लगेगी,
इधर तेरे आशिक की चिता जलेगी ।

मैंने उसे दिल दिया दिल्लगी के लिए,
वो मेरा दिल तोड़ गई अपनी दिल्लगी के लिए।

मेरी जिन्दगी के मालिक तू जी भर के ग़म दिये जा,
अपने ग़मों के बदले में लाख दुआयें लिए जा।

दौ एक आईने की तरह, जब से दिल मेरा तोड़ गया.
तब से हमें अपने भी लगते हैं बेगानों की तरह।

वादा तो भूल गई हो अब हमें जहर ही पिलाती जा,
जाते – जाते बेवफ़ा हम पे इतना तो एहसान करती जा।

वो तो अपने मकसद के लिए हमें चाहता था दोस्तो,
फिर भला हम कैसे सेहरा सजाके उसके घर जाते दोस्तो।

दिल तोड़ गई भरी बहार में, वो मेरा दोस्तो,
अब रोज पीते हैं, जहर उसकी याद में दोस्तो।

आईना देखने से सूरत नहीं बदल जाती,
वक्त चाहे कितना भी बुरा हो किस्मत नहीं बदल जाती ।

इतने दर्द देकर हमें तू किसके सहारे छोड़ चली,
हमारी वफ़ाओं का बेवफ़ा तू अच्छा सिला दे चली।

Dard Bhari Hindi Shayari

खुद पेड़ लगाती हो, और खुद उसकी टहनियां तोड़ देती हो,
इससे तो काट देती अच्छा था वेचारे को इतना दर्द क्यों देती हो।

दौलत वाले का हाथ थाम कर तू गरीब को भूल गई,
भूलना हमने तुझे चाहा मगर तमाम कोशिशें नकाम रह गई।

हमने तेरी जुदाई में अश्कों के न जाने कितने जाम पी डाले,
बेवफ़ा हमें ऐसा जाम पिला दे जो इस दर्द को मिटा डाले।

पेड़ को काट देना था तो उसे लगाया क्यों,
दर्द बढ़ाना नहीं था अगर तो इतना दर्द दिया क्यों।

दर्द देते हैं सभी मगर दवा नहीं देता कोई भी दर्द की,
कभी – कभी जी करता है खुदा छोड़ दूँ दुनिया यह बेदर्दी की।

कितना दर्द है इस दिल को, यह जमाने तू क्या जाने,
दिल की लगी दिल ही जाने ओ बेदर्दी तू क्या जाने।

मत रो दिल जहां कोई नहीं तेरी फरियाद सुनने वाला,
जो अपना था कभी आज वो गैरों का है होने वाला ।

अगर आपको ये Dard Bhari Shayari In HindiDard Bhri Shayariदर्द भरी शायरी पसंद आइये हो तो कृपया इन्हें शेयर करे!

Trending

#Hindi Shayari

Good Morning Shayari

#Hindi Shayari love Shayari

Love Shayari In Hindi

#Hindi Shayari Sad Shayari

Miss You Shayari